पेड़ पौधों का रंग हरा क्यों होता है | पेड़ पौधों की पत्तियां हरी क्यों होती हैं

Spread The Love And Share This Post In These Platforms

 पौधों की पत्तियों का रंग हरा क्यों होता है? अक्सर आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा पौधों की पत्तियों का रंग हरा होने का कारण सूर्य की रोशनी नहीं है बल्कि पौधों में ही कुछ ऐसे रसायन पाए जाते हैं जिनकी मदद से पत्तियों का रंग हरा होता है। पेड़ पौधों के पत्तियों का रंग हरा होना बहुत ही जरूरी होता है क्योंकि अगर पत्तियां हरी नहीं रहेंगी पतियों में हरित लवक नहीं रहेगा तो पौधे अपना भोजन नहीं बना पाएंगे जिसकी वजह से पौधे खत्म हो जाएंगे।

पेड़ पौधों का रंग हरा क्यों होता है?

पत्तियों का रंग क्लोरोफिल के कारण हरा होता है। क्लोरोफिल के बारे में जानने के लिए नीचे पढ़ें.

इंसान के शरीर में इंसान के स्किन का रंग मेलेनिन पर निर्भर करता है उसी तरह पेड़ पौधों का हरे रंग होने के पीछे पर्णहरित या हरित लवक या क्लोरोफिल के कारण होता है क्लोरोफिल पेड़ पौधों में रसायन के रूप में रहता है जो हरे रंग का होता है इसलिए पत्तियों का रंग हरा होता है और यह प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

प्रकाश संश्लेषण द्वारा पौधे अपना भोजन कैसे बनाते हैं?

प्रकाश संश्लेषण यानी फोटोसिंथेसिस एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें पौधे अपना भोजन सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में बनाते हैं। प्रकाश संश्लेषण की क्रिया के लिए सिर्फ क्लोरोफिल ही काफी नहीं होता बल्कि क्लोरोफिल के साथ-साथ सूर्य के प्रकाश का होना और जल की उपस्थिति होना बहुत ज्यादा जरूरी होता है।

प्रकाश संश्लेषण के लिए कार्बन डाइऑक्साइड CO2 और h2o यानी जल और प्रकाश की उपस्थिति में पौधे अपना भोजन बनाते हैं और ऑक्सीजन निकालता है इसी प्रक्रिया को प्रकाश संश्लेषण कहा जाता है।

कार्बन डाइऑक्साइड कहां से आता है?

आपके समझ में यह तो आ गया होगा कि h2o यानी पानी और प्रकाश कहां से आता है पर आपको यह नहीं समझ में आया होगा कि कार्बन डाइऑक्साइड पौधे कहां से ग्रहण करते हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं कि कार्बन डाइऑक्साइड कहां से आता है।

कार्बन डाइऑक्साइड जीव जंतुओं द्वारा वातावरण में फैल जाता है जिसको पौधे ग्रहण करके प्रकाश संश्लेषण की क्रिया करते हैं। जब हम सांस लेते हैं तो हमारे अंदर ऑक्सीजन जाता है जो पेड़ पौधे निकालते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकलता है जो पेड़ पौधे ग्रहण कर लेते हैं इसीलिए जीव जंतु और पेड़ पौधे एक दूसरे से जुड़े हुए हैं एक दूसरे के बिना जीवन असंभव है।

इसीलिए हमारे वातावरण में ज्यादा पेड़ पौधों का होना बहुत ज्यादा जरूरी होता है क्योंकि ऑक्सीजन हमें अच्छी तरह से मिल जाता है अगर  पेड़ नहीं रहेंगे तो वातावरण में ऑक्सीजन की कमी होने लगेगी जिसकी वजह से सांस लेने में हमें परेशानी होगी और हम बीमार पड़ने लगेंगे इसलिए पेड़ पौधे हमारे लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं।

क्या हरे रंग के अलावा दूसरे रंग के पत्तियों में भी क्लोरोफिल होता है?

ज्यादातर पत्तियों का रंग हरा ही होता है पर कभी-कभी कुछ पत्तियां लाल और पीले रंग की भी दिखाई देती है। हरे और पीले रंग की पत्तियां देखने के बाद अक्सर लोगों के मन में यह सवाल होता है कि अगर पत्तियों में क्लोरोफिल होता है तो वह हरे रंग की दिखाई देती है और अगर क्लोरोफिल नहीं रहेगा तो पौधे अपना भोजन नहीं बनाए पाएंगे फिर यह पौधे जिन की पत्तियां लाल या पीली है यह जीवित कैसे हैं। तो हम आपको इसका उत्तर बहुत ही आसान भाषा में देने जा रहे हैं। पत्तियां जिनका रंग लाल पीला होता है उनमें भी क्लोरोफिल पाया जाता है पर उनका रंग लाल या पीला इसलिए हो जाता है क्योंकि उन पौधों में क्लोरोफिल के अलावा दूसरे रसायन ज्यादा मात्रा में होते हैं जो पौधे के पत्तियों के रंग को लाल या  पीला कर देते हैं।

यही कारण है कि कुछ पत्तियां हरी होने के बजाय लाल या पीली दिखाई देते हैं।

पौधे सजीव होते हैं या निर्जीव

पेड़ पौधे सजीव होते हैं। पौधों में जीव होता है या नहीं होता है पौधे सजीव होते हैं या निर्जीव यह सवाल लगभग सभी लोगों के मन में आता है। क्योंकि सजीव का परिभाषा होता है जो सांस ले और जिसमें भोजन को खाने और पचाने की क्षमता हो वह सजीव होता है पर यह सवाल होता है कि पेड़ पौधे बिल्कुल निर्जीव की तरह दिखते हैं फिर यह सजीव कैसे हो सकते हैं क्या पेड़ पौधे सजीव होते हैं तो आइए जाने।

पेड़ पौधे सजीव होते हैं क्योंकि पेड़ पौधे भोजन बनाते हैं और पेड़ पौधे भी एक जीव है। पेड़ पौधे अपना भोजन खुद बनाते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड ग्रहण करते हैं और ऑक्सीजन बाहर निकालते हैं इसलिए वैज्ञानिकों का मानना है कि पेड़ पौधे सजीव होते हैं।

पेड़ पौधों के बारे में अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो और आपको अच्छी तरह समझ में आ गया हो कि पेड़ पौधे की पत्तियां हरी क्यों होती है तो इसे शेयर कर दें ताकि यह जानकारी दूसरों तक भी पहुंच सके।

119
Created on By PawanDixit

गांधी युग (1917-1947) GK Questions SET 4

गांधी युग (1917-1947) GK Questions SET 4

1 / 10

भारत एवं पाकिस्तान के बीच सीमांकन किसने किया था ?

Who made the demarcation between India and Pakistan?

2 / 10

निम्नलिखित में से कौन भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल नहीं था ?

Who among the following was not involved in the Quit India Movement?

3 / 10

‘इंकलाब जिंदाबाद' का नारा किसने दिया ?

Who gave the slogan 'Inquilab Zindabad'?

4 / 10

भारत की आजादी के समय कांग्रेस के अध्यक्ष कौन थे ?

Who was the President of Congress at the time of India's independence?

5 / 10

गांधीजी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष कितनी बार बने?

How many times did Gandhiji become the President of the Indian National Congress?

6 / 10

भारत में जब क्रिप्स मिशन आया उस समय भारत का वायसराय कौन था?

Who was the Viceroy of India when Cripps Mission came to India?

7 / 10

‘Who lives if India dies' किसकी उक्ति है?

Who says 'Who lives if India dies'?

 

 

8 / 10

किसने कहा, 'मध्य रात्रि के टकोर पर, जब संसार सोता है भारत अपने जीवन व स्वतंत्रता के लिए जाग उठेगा' ?

Who said, 'At the stroke of midnight, when the world sleeps, India will wake up to its life and freedom'?

9 / 10

चौरी-चौरा नामक प्रसिद्ध स्थल कहाँ है?

Where is the famous place called Chauri Chaura?

10 / 10

ब्रिटिश सरकार ने पहली बार यह घोषणा की कि उनकी मंशा भारत में धीरे-धीरे एक उत्तरदायी सरकार बनाने की है, द्वारा -

The British Government, for the first time, announced that it intended to gradually form a responsible government in India, by-

Your score is

The average score is 47%

0%

Rate this post

Spread The Love And Share This Post In These Platforms

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *